Monday, October 26, 2020
Home हमीरपुर टौणी देवी : पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद

टौणी देवी : पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद

रजनीश शर्मा 
हमीरपुर ;
माता टौणी देवी के मंदिर की ख़ासियत यह है कि यहाँ पत्थरों को टकराकर माता का अवाहन किया जाता है और माता हर मुराद पूरी करती है। लगभग 300 साल पुराने इस मंदिर में यह परंपरा आज भी निभाई जाती है। बेशक मंदिर परिसर में पीतल की घंटियाँ भी लगाई गई हैं लेकिन लोग परंपरा को निभाना नहीं भूलते। नवरात्रों में यहाँ ख़ूब चहल- पहल रहती है।

यह है मंदिर का इतिहास

मुग़लों के अत्याचार से तंग आकर तीन शताब्दी पूर्व चौहान वंश के 12 भाइयों ने इस पहाड़ी दुर्गम क्षेत्र में शरण ली थी ताकि अपने धर्म व परिजनों की रक्षा कर सकें। उनके साथ उनकी बहन भी थी जिसे सुनाई नहीं देता था। भाभियों के अक्सर तंग करने पर कन्या टौणी देवी क्षुब्ध होकर इस स्थान पर घोर तपस्या करते हुए भूमि में समा गई । उसी की याद में उसके भाइयों ने यहां छोटे से मंदिर की स्थापना की जो कि आज भव्य रूप धारण कर लिया है। माता की याद में यहां हर वर्ष मेले का आयोजन होता है। नवरात्र में भी श्रद्धालु दूर-दूर से यहां पहुंचते हैं। माता टौणी देवी को सुनाई नहीं देता था इसलिए जब भी कोई मन्नत मांगता है तो वहां रखे पत्थरों को आपस में टकराता है और उसकी हर मनोकामना पूर्ण होती है।

कुलदेवी की दूर दूर तक मान्यता

माता के दरबार में पंजाब हरियाणा, दिल्ली, राज्यस्थान, जम्मू कश्मीर व उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों से भी लोग दर्शन करने आते हैं। चौहान वंश के लोग इसे अपनी कुलदेवी मानते हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि टौणी देवी का मंदिर 300 वर्ष पुराना है यहां पर कई वर्ष से कमेटी काम कर रही है। श्रद्धालुओं को रहने के लिए हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध है।

ऐसे पहुंचें मंदिर

टौणी देवी मंदिर हमीरपुर-अवाहदेवी राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है। शिमला की तरफ से आने वाले श्रद्धालु हमीरपुर से होते हुए टौणी देवी पहुंच सकते हैं। पंजाब से आने वाले श्रद्धालु ऊना से हमीरपुर के बाद टौणी देवी पहुंच सकते हैं। इसके अलावा जम्मू से आने वाले श्रद्धालु कांगड़ा-हमीरपुर राष्ट्रीय राजमार्ग से आ सकते है।

वास्तुकला
हमीरपुर-अवाहदेवी राष्ट्रीय राजमार्ग-70 के साथ टौणी देवी मंदिर की सीढिय़ां हैं। पहली मंजिल में टौणी देवी माता, दूसरी तरफ साई बाबा, बाबा बालकनाथ व शनिदेव मंदिर है। दूसरी मंजिल में भगवान शिव व हनुमान की बड़ी मूर्तियां प्रतिष्ठापित हैं। इसके पीछे बड़ा सराय हाल है। इसके साथ भव्य व सुंदर पार्क है। यहां श्रद्धालु कुछ देर के लिए आराम करते हैं। मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए रात को ठहरने की भी उचित व्यवस्था है।
———————
नवरात्रों से पहले मंदिर की साफ-सफाई करवाई जाती है। इसके अलावा भंडारे का आयोजन भी किया जाता है। श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए विशेष प्रबंध किया जाता है।
धर्म सिंह, प्रधान, मंदिर कमेटी टौणी देवी।

Most Popular

ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर दन्त चिकित्सा सुविधाओं का सम्बल बनी मुख्यमन्त्री स्वावलम्बन योजना

सोलन वर्तमान प्रदेश सरकार राज्य के शिक्षित युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में योजनाबद्ध प्रयास कर रही है। राज्य सरकार द्वारा अनेक...

Shoolini news : “लुकिंग एट द लॉकडाउन स्टोरीज़ बाय यंग एडल्ट्स” किताब प्रकाशित

सोलन, : शूलिनी विश्वविद्यालय के बैलेट्रिसटिक  - लिटरेचर सोसाइटी ने कोविद -19 विषय पर  एक साहित्यिक संकलन...

हिमाचल में रहेगी तीसरी आंख की नजर , राज्य में लगेंगे 68 हजार सीसीटीवी कैमरे : डीजीपी

धर्मशाला डीजीपी संजय कुंडू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लाहौल दौरे के दौरान कोरोना संक्रमण कैसे फैला, यह स्वास्थ्य विभाग...

प्रदेश में 28 अक्‍टूबर से जियो टीवी पर लगेगी कक्षाएं, शिक्षा मंत्री करेंगे लांचिंग

शिमला : हिमाचल के सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे विद्यार्थी अब जियो टीवी के माध्यम से पढ़ाई कर सकेंगे। इसके लिए...

Recent Comments