Thursday, May 30, 2024
Homeशिमलाकेंद्र दबाव से और हिमाचल चल रहा ख्बाव से : रजनी पाटिल

केंद्र दबाव से और हिमाचल चल रहा ख्बाव से : रजनी पाटिल

कहा : जिम्मेवारी से बचती भागती फिर रही सरकार, विरोध करने वालों पर उल्टे दर्ज करवाए जा रहे मुकद्दमे

शिमला : हिमाचल प्रदेश कांग्रेस प्रभारी रजनी पाटिल जी ने कहा है कि उद्योपतियों में भाजपा की केंद्र सरकार का भय साफ नजर आ रहा है। प्रसिद्ध उद्योगपति बजाज समूह के चेयरमैन राहुल बजाज ने देश की अर्थव्यवस्था की दुर्दशा से लेकर अन्य ज्वलंत मुददों को लेकर गृहमंत्री के समक्ष बेबाक राय रखी लेकिन किसी अन्य उद्योगपति ने ना तो उनकी कही बातों का विरोध किया और न सरकार के बचाव में कोई सामने आया, जोकि दिखलाता कि देश के हर वर्ग के लोगों के मन में सरकार का डर भीतर तक समा चुका है।

प्रेस विज्ञप्ति उन्होंने कहा कि जिन मुद्दों पर सवालों के जवाब सरकार को देने चाहिए, उनसे सरकार बचती भागती फिर रही है।महंगाई ने सारे रिकार्ड तोड़ दिए हैं।अर्थव्यवस्था का दिवाला निकल गया है।बेरोजगारी चरम पर पहुंच गई है तथा प्याज के दामों ने सेंचुरी पार कर ली है।सरकार देश की जनता को जवाब दे कि इन हालातों के लिए कौन जिम्मेवार है।संसद में बहुमत मिलने के बाद भी ऐसी कौन सी शक्तियां है जो सरकार को काम करने से रोक रही हैं।उन्होंने कहा कि देश में ऐसे हालात क्यों बनाए जा रहे हैं, जिससे डर व अराजकता का माहौल बने।सवाल पूछने वालों व सरकार की नीतियों का विरोध करने वालों पर सरकार ईडी, सीबीआई से मुकद्दमे बना रही है, जिस कारण लोग सरकार कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं।उन्होंने कहा कि भय का माहौल बनाने व अपनी जिम्मेवारी से सरकार भाग नहीं सकती।सरकार को स्थिति स्पष्ट करनी ही होगी।उन्होंने कहा कि ऐसे ही हालातों से हिमाचल सरकार भी गुजर रही है।फर्क सिर्फ यही है कि प्रदेश की भाजपा सरकार को 2 साल में यही पता नहीं चला है कि कैसे काम किया जाए।प्रदेश सरकार केवल सत्ता के मजे लूट रही है।

उन्होंने कहा कि केंद्र में रूआब व दवाब की राजनीति से और प्रदेश में ख्बाव दिखाकर मन बहलाया जा रहा है।हिमाचल में कांग्रेस संगठन को लेकर उन्होंने कहा कि प्रदेश में सभी छोटी-बड़ी कार्यकारिणियां भंग करने के बाद अब हाईकमान की नजर उन निष्ठावान चेहरों पर टिकी हुई जोकि बिना की पद की लालसा के अब तक पार्टी का काम करते आए हैं।ऐसे ईमानदार, कर्तव्यनिष्ठ लोगों को आगे लाया जाएगा, क्योंकि दुराग्रह, फरेब व द्वेष में पली बढ़ी विचारधारा से देश को बचाने का समय आ गया है, जिसे देश की सत्ता से बाहर करने के लिए ऐसे निष्ठावान चेहरों को आगे लाना ही होगा।

Most Popular