Monday, December 5, 2022
Homeऊनातू-तड़ाक से बात करने वाले अग्निहोत्री न करें सम्मान की बातें: देवेन्द्र...

तू-तड़ाक से बात करने वाले अग्निहोत्री न करें सम्मान की बातें: देवेन्द्र सिंह राणा

देवेन्द्र सिंह राणा बोले, खुद को वीरभद्र सिंह से बड़ा नेता समझते हैं मुकेश अग्निहोत्री

ऊना: नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के बयान पर बीजेपी नेता देवेन्द्र सिंह राणा ने जवाब दिया है। देवेन्द्र सिंह राणा ने कहा कि मुकेश अग्निहोत्री कहते हैं कि जयराम ठाकुर सम्मान से बात करें। उन्होंने पूछा कि मुकेश अग्निहोत्री बताएं कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहां और किसके लिए अपमानजनक बात कही। जय राम ठाकुर एक बहुत ही सरल शालीन एवं नम्र स्वभाव के मुख्यमंत्री हैं। देवेन्द्र सिंह राणा ने कहा कि सम्मान से बात करने की नसीहत देने की बात वो मुकेश अग्निहोत्री कर रहे हैं जो सार्वजनिक मंच से जयराम ठाकुर के लिए तू-तड़ाक की भाषा का इस्तेमाल करते हैं। जो विधानसभा के बाहर राज्यपाल की गाड़ी का बोनट ठोंकते नजर आते हैं और सुरक्षा अधिकारी को धक्का देते हैं। देवेन्द्र सिंह राणा ने कहा कि मुकेश अग्निहोत्री की ये हरकतें पूरे प्रदेश की जनता सोशल मीडिया पर देख चुकी है।

                 देवेन्द्र सिंह राणा ने कहा कि यदि आज मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने वीरभद्र सिंह मॉडल की पोल खोली है तो उसमें क्या गलत किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता खुद मंच से कहते हैं कि वीरभद्र सिंह छह बार हिमाचल के मुख्यमंत्री रहे। अब जब सीएम जयराम ठाकुर कांग्रेस से सवाल कर रहे हैं कि छह बार मुख्यमंत्री रहने के बाद भी वो लोगों के इलाज के लिए हिमकेयर, सहारा योजना सहित शगुन, स्वावलंबन जैसी योजनाएं नहीं चला सके तो फिर वीरभद्र सिंह ने कैसा विकास किया। छह बार मुख्यमंत्री रहने के बाद भी हिमाचल में इतना कर्ज क्यों है और इतने बेरोजगार हैं तो आखिर वीरभद्र सिंह ने अपने इतने लंबे कार्यकाल में क्या किया।

देवेन्द्र सिंह राणा ने सवाल पूछा कि आज मुकेश अग्निहोत्री कह रहे हैं कि हम ये कर देंगे हम वो कर देंगे। यह काम 2012 से 2017 के दौरान वीरभद्र सरकार में मुकेश अग्निहोत्री क्यों नहीं कर पाए? क्या मुकेश अग्निहोत्री यह कहना चाह रहे हैं कि जो काम वीरभद्र सिंह छह बार मुख्यमंत्री रहने के बाद भी नहीं कर सके वो काम मुकेश अग्निहोत्री चुटकी बजाते हुए कर कर देंगेे? यानी छह बार के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह अक्षम नेता थे। इसका यही अर्थ है कि मुकेश अग्निहोत्री खुद को बड़ा नेता समझते हैं और वीरभद्र सिंह को छोटा नेता।
जनता मुकेश के सारे खोले बयान और वादे अच्छे से समझती है और उन्हें पता है कि भाजपा का नेतृत्व कैसे देश और प्रदेश को आगे ले।जा रहा है , इस चुनाव में भी भाजपा की जीत निश्चित है।

Most Popular

Recent Comments