Saturday, July 13, 2024
Homeकुल्लूबेटियों के प्रति सोच बदल कर देखें, समाज में आएगा परिवर्तन

बेटियों के प्रति सोच बदल कर देखें, समाज में आएगा परिवर्तन

रेणुका गौतम
राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डेजी ठाकुर ने की अपील
जागरूकता शिविर में महिलाओं को दी महत्वपूर्ण जानकारियां

कुल्लू : बेटियां समाज का अभिन्न अंग है और इनकी अनदेखी अथवा दूसरे दर्जे की नागरिक मानने की प्रवृति से कोई भी समाज उन्नति नहीं कर सकता। बेटियां दो-दो परिवारों की चिंता करती हैं। समाज को बेटियों के प्रति सोच में बदलाव लाने की आज भी आवश्यकता है। यह उद्गार हि.प्र. राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डेजी ठाकुर ने आज कुल्लू के देवसदन में महिला जागरूकता शिविर में व्यक्त किए।

डेजी ठाकुर ने कहा कि वर्षों पूर्व तक महिलाओं की स्थिति काफी दयनीय रही है, लेकिन आज जब महिलाएं पढ़-लिख कर अपने पैरों पर खड़ी हो रही हैं, उनके सामाजिक व आर्थिक जीवन में सकारात्मक बदलाव आया है। जिन घर-परिवारों में बेटियों को बेटों के समान परवरिश की जा रही है, वहां बेटियों ने अपना मुकाम स्वयं स्थापित किया है। आज समाज के प्रत्येक क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है। उन्होंने चिंता जाहिर की कि 21वीं सदी में भी बेटियों के साथ अनेक अप्रिय घटनाएं हो रही हैं, जिनका कड़ा विरोध किया जाना चाहिए।
अध्यक्ष ने कहा कि हमारे देश में महिलाओं की सुरक्षा के लिए अनेक कानून बनाए गए हैं। महिलाओं के प्रति हिंसा करने वालों को कतई बख्शा नहीं जाना चाहिए और सभी को एकजुट होकर ऐसे असामाजिक तत्वों को सलाखों के पीछे पहंुचाने मंे सहयोग करना चाहिए।
इस अवसर पर महिला आयोग की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए डेजी ठाकुर ने बताया कि लगभग डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में आयोग ने महिला उत्पीड़न के 200 से अधिक मामले निपटाए हैं। उन्होंने बताया कि आयोग बहुत ही सरल प्रक्रिया के माध्यम से इस तरह के मामलों को निपटाता है। आयोग दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद फैसला देता है तथा इससे धन और समय की काफी बचत होती है। अध्यक्ष ने बताया कि महिला उत्पीड़न की शिकायत के बाद आयोग कई मामलों का स्वतः संज्ञान भी लेता हैं तथा महिलाओं से संबंधित कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर सरकार को सुझाव देता है। उन्होंने कहा कि महिला जागरूकता और सशक्तिकरण के लिए भी आयोग प्रदेश भर में निरंतर कार्यक्रम आयोजित करता रहता है। महिला शक्तिकरण और जागरूकता को बल देने के लिए ब्लाॅक और पंचायत स्तर तक कार्यक्रम आयोजित करने की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। उन्होंने बताया कि भविष्य में अगर ज्यादा मामले आते हैं तो आयोग कुल्लू में भी अदालत लगाने पर विचार करेगा।
इस अवसर पर आयोग की सदस्य मंजरी नेगी ने भी महिलाओं का मार्गदर्शन किया तथा आयोग की प्राथमिकताओं पर प्रकाश डाला। डीएसपी आशीष शर्मा ने महिलाओं से संबंधित विभिन्न अधिनियमों की जानकारी दी। जिला कार्यक्रम अधिकारी वीरेंद्र आर्य ने महिला आयोग अध्यक्ष और अन्य अतिथियों का स्वागत किया तथा महिला एवं बाल विकास विभाग की विभिन्न योजनाओं से अवगत करवाया। जिला उद्योग केंद्र की महाप्रबंधक छिमे आंगमों, कृषि विभाग की एसएमएस डा. ऋतु गुप्ता, उद्यान विकास अधिकारी डा. बिंदू शर्मा, जिला बाल संरक्षण समिति की अध्यक्ष कृष्णा देवी, महिला थाना प्रभारी गरिमा सूर्या, उच्चतर शिक्षा विभाग के अधीक्षक मदन लाल, स्वास्थ्य विभाग की जनशिक्षा एवं सूचना अधिकारी उषा शर्मा ने भी प्रतिभागियों को अपने-अपने विभागों की योजनाओं से अवगत करवाया। शिविर में आंगनबाड़ी वर्करों, विभिन्न महिला संगठनों की कार्यकर्ता और बड़ी संख्या में अन्य महिलाओं ने भी भाग लिया।

डेजी ठाकुर ने कहा कि वर्षों पूर्व तक महिलाओं की स्थिति काफी दयनीय रही है, लेकिन आज जब महिलाएं पढ़-लिख कर अपने पैरों पर खड़ी हो रही हैं, उनके सामाजिक व आर्थिक जीवन में सकारात्मक बदलाव आया है। जिन घर-परिवारों में बेटियों को बेटों के समान परवरिश की जा रही है, वहां बेटियों ने अपना मुकाम स्वयं स्थापित किया है। आज समाज के प्रत्येक क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है। उन्होंने चिंता जाहिर की कि 21वीं सदी में भी बेटियों के साथ अनेक अप्रिय घटनाएं हो रही हैं, जिनका कड़ा विरोध किया जाना चाहिए।
अध्यक्ष ने कहा कि हमारे देश में महिलाओं की सुरक्षा के लिए अनेक कानून बनाए गए हैं। महिलाओं के प्रति हिंसा करने वालों को कतई बख्शा नहीं जाना चाहिए और सभी को एकजुट होकर ऐसे असामाजिक तत्वों को सलाखों के पीछे पहंुचाने मंे सहयोग करना चाहिए।
इस अवसर पर महिला आयोग की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए डेजी ठाकुर ने बताया कि लगभग डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में आयोग ने महिला उत्पीड़न के 200 से अधिक मामले निपटाए हैं। उन्होंने बताया कि आयोग बहुत ही सरल प्रक्रिया के माध्यम से इस तरह के मामलों को निपटाता है। आयोग दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद फैसला देता है तथा इससे धन और समय की काफी बचत होती है। अध्यक्ष ने बताया कि महिला उत्पीड़न की शिकायत के बाद आयोग कई मामलों का स्वतः संज्ञान भी लेता हैं तथा महिलाओं से संबंधित कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर सरकार को सुझाव देता है। उन्होंने कहा कि महिला जागरूकता और सशक्तिकरण के लिए भी आयोग प्रदेश भर में निरंतर कार्यक्रम आयोजित करता रहता है। महिला शक्तिकरण और जागरूकता को बल देने के लिए ब्लाॅक और पंचायत स्तर तक कार्यक्रम आयोजित करने की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। उन्होंने बताया कि भविष्य में अगर ज्यादा मामले आते हैं तो आयोग कुल्लू में भी अदालत लगाने पर विचार करेगा।
इस अवसर पर आयोग की सदस्य मंजरी नेगी ने भी महिलाओं का मार्गदर्शन किया तथा आयोग की प्राथमिकताओं पर प्रकाश डाला। डीएसपी आशीष शर्मा ने महिलाओं से संबंधित विभिन्न अधिनियमों की जानकारी दी। जिला कार्यक्रम अधिकारी वीरेंद्र आर्य ने महिला आयोग अध्यक्ष और अन्य अतिथियों का स्वागत किया तथा महिला एवं बाल विकास विभाग की विभिन्न योजनाओं से अवगत करवाया। जिला उद्योग केंद्र की महाप्रबंधक छिमे आंगमों, कृषि विभाग की एसएमएस डा. ऋतु गुप्ता, उद्यान विकास अधिकारी डा. बिंदू शर्मा, जिला बाल संरक्षण समिति की अध्यक्ष कृष्णा देवी, महिला थाना प्रभारी गरिमा सूर्या, उच्चतर शिक्षा विभाग के अधीक्षक मदन लाल, स्वास्थ्य विभाग की जनशिक्षा एवं सूचना अधिकारी उषा शर्मा ने भी प्रतिभागियों को अपने-अपने विभागों की योजनाओं से अवगत करवाया। शिविर में आंगनबाड़ी वर्करों, विभिन्न महिला संगठनों की कार्यकर्ता और बड़ी संख्या में अन्य महिलाओं ने भी भाग लिया।

Most Popular