Sunday, June 16, 2024
Homeशिमलालड़ाई जीत की नहीं…जीत में मत प्रतिशत बढ़ाने की-तीरथ सिंह रावत

लड़ाई जीत की नहीं…जीत में मत प्रतिशत बढ़ाने की-तीरथ सिंह रावत

शिमला : भाजपा के हिमाचल लोकसबा प्रभारी तीर्थ सिंह रावत ने कहा कि अभी तक पूरे देश में भाजपा को जिस तरह के रूझान मिल रहे हैं, उससे साफ है कि मोदी प्रधानमंत्री बन चुके हैं। अब तो 23 मई को सिर्फ आधिकारिक घोषणा होनी बाकी है। शिमला में चुनाव प्रचार के अंतिम दिन तीर्थ सिंह रावत ने कहा कि देश की खासतौर पर हिमाचल की जनता ने मोदी को बहुत प्यार दिया है और उनकी हिमाचल में हुई रैलियों से यह बात साफ हो जाती है।

उन्होंने कहा कि हिमाचल की चारों सीटें भाजपा जीत रही है। हमारी लड़ाई हार-जीत को लेकर नहीं है बल्कि जीत में मत प्रतिशत बढ़ाने को लेकर है। उन्होंने दावा किया हिमाचल की चारों सीटों पर जीत का मार्जिन एक लाख से ऊपर का रहने वाला है।

रावत ने कहा कि देश में जनता कांग्रेस को नकार चुकी है और कांग्रेस अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है। उन्होंने कहा कि पूरे देस की तरह हिमाचल में भी कांग्रेस के सामने अपने चुनाव चिंन्ह को बचाए रखने की चुनौती है और पने इसी पार्टी चुनाव चिन्ह को कांग्रेस बचाना चाहती है।

उन्होंने कहा कि देश में पिछले पांच सालों में मोदी सरकार ने जिस तरह से काम किया उसे देख कांग्रेस बौखलाई व घबराई हुई है। पुलवामा हमले के बाद मोदी ने जिस तरह से देस की सेना को आंतकतवाद के खिलाफ खुली छूट दी, आज से पहले कभी नहीं मिली। आतंकवाद, देश की सुरक्षा, महंगाई पर विराम, भ्रष्टाचार को दूर करने व विकास की दिशा में जिस तरह मोदी ने काम किया है उसे देखते हुए देश मोदी के साथ है।

प्रदेश की जयराम सरकार ने भी पूरी पारदर्शिता के साथ काम किया और जनमंच जैसे सफल कार्य्कम चलाए। केन्द्र और प्रदेश की डबल इंजन की सरकार प्रदेश को विकास के पथ पर लाई है जिसको आगे बढ़ाया जाएगा। राष्ट्रीयता की भावना देश के युवाओं में जगाई।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की मंडी व सोलन रैली में हज़ारों की संख्या में लोग उमड़े। अमित शाह की चम्बा, बिलासपुर व नाहन की रैली को भी आपार सफलता मिली। दूसरी तऱफ प्रियंका गांधी न ही शिमला पहुंच पाई और न ही सुन्दरनगर रैली में आ पाई। क्योंकि कांग्रेस की जनसभाएं में भीड़ ही नहीं जुट पा रही है। जिससे जनता का रुख बीजेपी की तरफ साफ़ है। कांग्रेस अपनी असफल रैलियों का ठीकरा बीजेपी पर फोड़ रही है जो गलत है।

Most Popular