Sunday, March 3, 2024
Homeसोलनशूलिनी यूनिवर्सिटी हिमाचल में शुरू करेगा चार ऑफ-कैम्पस इंस्टीट्यूट्स

शूलिनी यूनिवर्सिटी हिमाचल में शुरू करेगा चार ऑफ-कैम्पस इंस्टीट्यूट्स

रमा ठाकुर

हिमाचल प्रदेश सरकार के साथ चार एमओयू पर हस्ताक्षर

पहले पांच वर्षों में 100 करोड़ रुपए का निवेश

सोलन : शूलिनी यूनिवर्सिटी सोलन, शिमला, मंडी और पांवटा साहिब में चार ऑफ कैम्पस सेंट(इंस्टीट्यूट/कॉलेज) स्थापित करेगी। इस संबंध में, राइजिंग हिमाचल ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के मिनी कॉन्क्लेव के दौरान हिमाचल प्रदेश सरकार के साथ यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो.पी.के. खोसला द्वारा चार एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए हैं। समारोह की अध्यक्षता हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने की।

आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन में प्रो.पी.के. खोसला, वाइस चांसलर ने कहा कि ‘‘ये संस्थान/कॉलेज विभिन्न विषयों जैसे साइंस, इंजीनियरिंग, लिबरल आर्ट्स, होटल प्रबंधन इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, नैनो टेक्नोलॉजी, योग और नेचुरल पैथी, फार्मेसी आदि में स्नातक, स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट शिक्षा प्रदान करेंगे।’हिमालयन जैव विविधता के सतत उपयोगऔर संरक्षण पर अनुसंधान पर विशेष जोर दिया जाएगा; आतिथ्य और पर्यटन, योग और नेचुरल पैथी चिकित्सा, इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी आदि। इस प्रकार, न केवल हिमाचल प्रदेश के छात्र बल्कि आसपास के राज्यों के छात्र इन केंद्रों में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए आकर्षित होंगे और राज्य के शांत गर्मियों और सुखद सर्दियों का आनंद लेंगे। ये ऑफ कैंपस सेंटर यूनिवर्सिटी के अनुसंधान आधार को मजबूत करने में भी मदद करेंगे क्योंकि 2.21 की फील्ड वेटेड साइटेशन पहले ही इसे प्रमुख वैश्विक यूनिवर्सिटीज में शामिल कर रहा है। 50 के अपने एच-इंडेक्स के लिए भी यही सही है जो 2009 और उसके बाद स्थापित सभी 325 यूनिवर्सिटीयों में सर्वश्रेष्ठ है।

शूलिनी यूनिवर्सिटी पहले पांच वर्षों में 100 करोड़ रुपए का निवेश करेगा, जिसमें ऊपर उल्लिखित प्रत्येक स्थान पर 25 करोड़ रुपये होंगे। शूलिनी यूनिवर्सिटी के ये ऑफ-कैंप सेंटर इस प्रकार प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष 1200 व्यक्तियों को रोजगार मिलेगा जिसमें लगभग 300 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा।
ये सेंटर आर्टिफिशियल, कैंसर रिसर्च, नैनो टेक्नोलॉजी, जल शोधन, उत्पाद विकास के लिए हिमालयी जैव विविधता के उपयोग और उनके व्यावसायीकरण आदि पर शूलिनी के अनुसंधान उपलब्धियों को मानकीकृत करने में भी मदद करेंगे। शूलिनी यूनिवर्सिटी पर्यावरण क्षरण, नशीली दवाओं के दुरुपयोग और कुटीर उद्योगों प्रोत्साहन के लिए सामाजिक जागरूकता पर भी ध्यान केंद्रित करेगा।
कैम्पसों को खोलने के लिए शूलिनी यूनिवर्सिटी अधिनियम में प्रावधान है। हालांकि, यूजीसी नियामक यह प्रावधान प्रदान करते हैं कि यूनिवर्सिटी को अस्तित्व में आने के पांच साल बाद कैम्पस सेंटर खोलने की अनुमति दी जा सकती है। शूलिनी यूनिवर्सिटी ने अपनी स्थापना के 10 साल पूरे कर लिए हैं और ऐसे में यूनिवर्सिटी अपने ऑफ कैम्पस खोलने का आधार मजबूती से स्थापित कर रही है।

Most Popular