COVID-19 Total Cases

All countries
5,495,061
Total confirmed cases

COVID-19 Total Deaths

All countries
346,232
Total deaths

COVID-19 Total Recoverd

All countries
2,231,738
Total recovered

COVID-19 Total Active

All countries
2,917,091
Total active cases
Wednesday, May 27, 2020

COVID-19 Total Cases

All countries
5,495,061
Total confirmed cases

COVID-19 Total Deaths

All countries
346,232
Total deaths

COVID-19 Total Recoverd

All countries
2,231,738
Total recovered

COVID-19 Active Cases

All countries
2,917,091
Total active cases

-

शूलिनी यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों को कोविड-19 अनुसंधान के लिए माइक्रोसॉफ्ट से ग्रांट (अनुदान) की पेशकश

सोलन: हिमाचल प्रदेश स्थित शूलिनी यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की एक टीम को कोविड-19 के उपचार और इस को रोकने के लिए दवाओं का पता लगाने संबंधित शोध करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) हेल्थ प्रोग्राम के माध्यम से अनुदान की पेशकश की गई है। इस परियोजना को हाई परफॉर्मेंस कम्प्यूटिंग (एचपीसी) कंसोर्टियम के माध्यम से फंड प्रदान किया गया है और डॉ.गुरजोत कौर, एसोसिएट प्रोफेसर, स्कूल ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंसेज, के नेतृत्व वाली टीम को माइक्रोसॉफ्ट लाइसेंस्ड संसाधनों के साथ काम करने के लिए अगले छह महीनों के लिए माइक्रोसॉफ्ट एज्यूर क्रेडिट्स तक पहुंच प्राप्त होगी जो कि ऑनलाइन प्लेटफॉर्म और वर्चुअल मशींस हैं।

टीम मॉलीक्यूलर मॉडलिंग अध्ययनों का उपयोग करके कोविड-19 विशिष्ट लक्ष्यों का उपयोग करते हुए इंटरेक्शन के माध्यम से एंटी-वायरल गतिविधि के लिए फाइटोकेमिकल घटकों की बहुत जरूरी स्क्रीनिंग का प्रदर्शन करेगी। भारतीय औषधीय जड़ी-बूटियों में समान या समान फाइटोकॉन्स्टिट्यूएंट्स होते हैं और एंटी-कोविड- 19 दवाओं के रूप में उनमें काफी बेहतरीन संभावनाएं दिखती हैं। यह परियोजना सीधे कोविड-19 के लिए एंटी-वायरल दवा के विकास को प्रोत्साहित करेगी और इससे काफी व्यापक सकारात्मक प्रभाव सामने आएंगे।

डॉ.गुरजोत कौर के अनुसार, संक्रमित कोविड-19 रोगियों की वर्तमान संख्या तेजी से बढ़ रही है। जबकि सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन को लागू किया है, और ये इस फैलती महामारी के लिए अच्छे दीर्घकालिक समाधान नहीं हैं। एक अधिक व्यवहार्य विचार दोनों प्रोफिलैक्सिस के लिए औषधीय दवाओं के विकास के साथ-साथ वायरस से संक्रमित रोगियों के उपचार में व्यापक निवेश करना होगा।

कई मौजूदा एंटी-वायरल दवाओं को गंभीर रूप से प्रभावित रोगियों पर इसके प्रभाव को कम करने या यहां तक कि पूरी तरह से ठीक करने की उम्मीद में कोशिश की जा रही है और इस तरह मृत्यु दर में कमी आती है। दुर्भाग्य से, वर्तमान दवा रणनीतियों में से कोई भी पूरी तरह से सकारात्मक परणिाम देने वाली नहीं है और वैक्सीन के विकास में एक वर्ष से अधिक समय लग सकता है।

शूलिनी यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो.पी.के.खोसला ने डॉ. गुरजोत कौर द्वारा अपने नेतृत्व में शुरू किए गए इस प्रोजेक्ट की सराहना करते हुए कहा कि यूनिवर्सिटी परियोजना के लिए अपना पूरा सहयोग देगी।

Latest news

60 प्रतिशत सवारियों के साथ चलेंगी बसें: गोविंद सिंह

रेणुका गौतमहर वर्ग को राहत दे रही है सरकार, जल्द पटरी पर लौटेंगी आर्थिक गतिविधियां

भाजपा सरकार भ्रष्टाचार के प्रति अपनी ’’जीरो टॉलरेंस’’ की नीति पर कायम

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रणधीर शर्मा ने आज जारी एक प्रैस बयान में कहा कि...

अनुसूचित जाति मोर्चा व ओ0बी0सी0 मोर्चा का विस्तार

भाजपा ने अनुसूचित जाति मोर्चा व ओ0बी0सी0 मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारियों व जिलाध्यक्षो की घोषणा कीसांसद सुरेश...

कुल्लू जिला में फल सीजन के लिए समिति का गठन

रेणुका गौतम कुल्लू : वैश्विक महामारी कोरोना...

मरम्मत हेतु बिजली के खंभे पर चढ़ा युवक करंट से झुलसा

रेणुका गौतम कुल्लू : जिला मुख्यालय कुल्लू, ढालपुर...

तय बाजारी फड़ी छोले कुलचे यूनियन ने लॉक डाउन में काम शुरू करने पर जताया आभार

शिमला : तय बाजारी फड़ी छोले कुलचे यूनियन ने आज शिक्षा, विधि एवं संसदीय कार्य...

Must read

You might also likeRELATED
Recommended to you