Wednesday, July 17, 2024
Homeस्वास्थ्यफोर्टिस मोहाली डिफ्लेक्सियन ओस्टियोटॉमी के माध्यम से कर रहे घुटने की गंभीर...

फोर्टिस मोहाली डिफ्लेक्सियन ओस्टियोटॉमी के माध्यम से कर रहे घुटने की गंभीर चोटों के मरीजों का इलाज

फोर्टिस मोहाली ने डिफ्लेक्सियन ओस्टियोटॉमी के माध्यम से गम्भीर घुटने की चोट के साथ व्हीलचेयर से बंधे व्यक्ति की चाल को किया बहाल

  • मरीज की पहले दो सर्जरी हो चुकी थी लेकिन नतीजा नहीं निकला, डॉ. रवि गुप्ता ने उस दोष को ठीक किया जिससे मरीज सर्जरी के अगले ही दिन चलने में सक्षम हो गया –

शिमला : फोर्टिस अस्पताल मोहाली में आर्थोपेडिक्स विभाग ने 34 वर्षीय एक दिव्यांग के चलने फिरने को बहाल कर दिया, जिसकी पहले मरीज के घुटने की दो सर्जरी मुंबई और गुरुग्राम में की गई थी।
फोर्टिस हॉस्पिटल मोहाली के ओर्थोपेडिक्स (स्पोर्ट्स मेडिसिन) के डायरेक्टर डॉ. रवि गुप्ता के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम ने मरीज के अस्थिर घुटने का इलाज किया और डिफ्लेक्सियन ओस्टियोटॉमी और रिविजन एसीएल सर्जरी के माध्यम से दोष को ठीक किया।
पिछले साल अपने बाएं घुटने में लिगामेंट की चोट के बाद रोगी अत्यधिक दर्द में था। उनका मुंबई में एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट (एसीएल) सर्जरी के लिए ऑपरेशन किया गया था। इसके बाद, उन्होंने गुरुग्राम में एक और एसीएल रिवीजन सर्जरी की। हालाँकि, रोगी का घुटना अस्थिर रहा क्योंकि सर्जरी से कुछ खास परिणाम नहीं मिले। छह महीन के बाद भी रोगी का घुटना लगातार अस्थिर बना रहा, जिसके बाद उसने फोर्टिस के डॉ. रवि गुप्ता से संपर्क किया।
पहले की दो सर्जरी के कारण एक जटिल मामला होने के कारण, डॉ. गुप्ता ने पूरी तरह से चिकित्सा मूल्यांकन किया, जिससे पता चला कि मरीज का एसीएल का ग्राफ्ट फट गया था। उनकी स्थिति का पता 19 डिग्री के हाई पोस्टीरियर टिबियल स्लोप (पीटीएस) के रूप में लगाया गया था – जो पहले की सर्जरी की विफलता का कारण था।
पोस्टीरियर टिबियल स्लोप (पीटीएस) घुटने के पीछे की ओर झुका हुआ पैर की हड्डी (टिबिया) की ऊपरी सतह का ढलान है। पैर की हड्डी की इस सतह पर जांघ की हड्डी (फीमर) का निचला सिरा इससे जुड़कर घुटने का जोड़ बनाता है। यदि यह ढलान अधिक है, तो जांघ की हड्डी पीछे की ओर खिसक जाती है, जिससे एसीएल ग्राफ्ट पर अत्यधिक दबाव पड़ता है, जिससे ग्राफ्ट विफल हो जाता है। इसके अलावा, एमआरआई ने यह भी खुलासा किया कि रोगी की पिछली सर्जरी में एसीएल ग्राफ्ट का सुबोप्टमल प्लेसमेंट भी था।
डॉ. गुप्ता के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम ने जटिल सर्जरी की, जिसमें डिफ्लेक्सियन ओस्टियोटॉमी के माध्यम से टिबियल स्लोप को ठीक किया गया और इस प्रक्रिया को रिविजन एसीएल सर्जरी के साथ जोड़ा गया, दोनों सर्जरी एक चरण में हुईं। यह पटेला (घुटने की टोपी) और पेटेलर लिगामेंट के साथ टिबिया के ऊपरी सिरे से लिए गए एक नए ग्राफ्ट का उपयोग करके किया गया था। पूरी सर्जरी सफल रही और मरीज प्रक्रिया से अगले दिन चलने फिरने में समर्थ हो गया।
डॉ गुप्ता द्वारा डिजाइन किए गए प्रोटोकॉल के बाद, रोगी पूर्ण गति और लचीलापन हासिल करने में सक्षम था। दो महीने के बाद, वह सामान्य रूप से चलने में सक्षम हो गया है और उन्होंने अपनी दैनिक गतिविधियों को फिर से शुरू कर दिया है।
मामले पर प्रकाश डालते हुए डॉ. गुप्ता ने कहा, ‘मरीज की दो असफल सर्जरी हुई थी और इससे उनका चलना फिरना बुरी तरह प्रभावित था। डिफ्लेक्सियन ओस्टियोटॉमी और रिविजन एसीएल सर्जरी के माध्यम से इस दोष को ठीक किया गया था। उन्होंने अपनी दैनिक गतिविधियों को फिर से शुरू कर दिया है और अब आसानी से चलने में सक्षम हैं।”

fortis

Most Popular