Friday, June 21, 2024
Homeहमीरपुरजेओए भर्ती मामले में हजारों युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ कर रही...

जेओए भर्ती मामले में हजारों युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ कर रही सरकार : राणा

पिछले 7 दिनों से आयोग कार्यालय के बाहर अनशन पर बैठे अभ्यर्थियों से मिले विधायक, कहा : विधानसभा सत्र में उठाएंगे मामला

हमीरपुर : तकरीबन एक सप्ताह से हिमाचल प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग हमीरपुर के कार्यालय के बाहर अनशन पर बैठे जेओए पदों के अभ्यर्थियों को भले ही सरकार ने तवज्जो नहीं दी हो, लेकिन वीरवार को कांग्रेस के विधायक

राजेंद्र राणा जी ने अभ्यर्थियों से मिलकर उन्हें भरोसा दिया है कि इस मामले में कांग्रेस पार्टी उनके साथ है और आने वाले विधानसभा सत्र में उनके मसले को जोर-शोर से उठाएंगे।इस दौरान राजेंद्र राणा ने अभ्यर्थियों की बात को विस्तार से समझा।बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए विधायक राजेंद्र राणा ने कहा कि इन हजारों अभ्यर्थियों के साथ सरकार अन्याय व धोखा कर रही है।उन्होंने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार ने वर्ष 2014 में जूनियर आफिस असिस्टेंट (जेओए) के 447 पदों को भरने के लिए भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी तथा वर्ष 2017 में चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति प्रदान की गई।हालांकि वर्ष 2016 में इन पदों के लिए अनिवार्य कम्प्यूटर ज्ञान पर सवाल उठे थे तथा सरकार ने केबिनेट की बैठक में कमेटी गठित कर उनके हक में फैसला सुनाया था।वर्ष 2016 में ही उन्हीं सेवा एवं नियमों के तहत जेओए के 1150 पदों की भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी, जिसका परिणाम फरवरी, 2019 में घोषित किया तथा 500 पद ही भरे जबकि 650 पदों को रिक्त रह गए।रिजल्ट घोषित करने से पहले किसी संबद्ध प्राप्त संस्थान से कम्प्यूटर कोर्स करने की बेवजह शर्त जोड़ी गई जोकि बिल्कुल गलत है, क्योंकि शैक्षणिक योग्यता 12वीं कक्षा पास रखी गई है।इसके लिए भी आयोग पिछली भर्ती प्रक्रिया में केबिनेट द्वारा गठित कमेटी के निर्णय को दरकिनार कर स्वयं गठित कर ऐसे निर्णय ले रही है जोकि हजारों युवाओं के भविष्य को अंधकारमय बना है।उन्होंने कहा कि एक ही पदनाम के लिए 2 साल के अंतराल में भर्ती प्रक्रिया तो शुरू हुई लेकिन आर एंड पी रूल्ज में बिना मतलब का बदलाव किया जा रहा है।उन्होंने कहा कि ऐसे भी अभ्यर्थी हैं जोकि 45 साल की उम्र पार करने वाले हैं, लेकिन मामले को सुलझाने की बजाये लटका रही है।उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी सरकार को युवाओं के भविष्य से खेलने नहीं देगी।पूर्व कांग्रेस सरकार ने ही भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी और अब उनकी नियुक्ति के लिए पूरी लड़ाई लड़ेगी, क्योंकि यह किसी एक परिवार की लड़ाई नहीं है।इससे हजारों युवाओं के परिवार भी जुड़े हैं तथा इन्हीं पदों से सरकारी कामकाज में भी तेजी आती है।सरकार की रीढ़ इन पदों को भरने के लिए सरकार को जल्द निर्णय लेना चाहिए।उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का चरित्र ही खोट से भरा है जोकि बेरोजगारों की भी नहीं सुन रही है लेकिन कांग्रेस पार्टी उन्हें न्याय दिलवाने के लिए उनके साथ खड़ी है।

Most Popular