Friday, December 4, 2020
Home कांगड़ा कृषि उपज मंडी समिति कांगड़ा के ईमानदार व मेहनती अधिकारी को 7...

कृषि उपज मंडी समिति कांगड़ा के ईमानदार व मेहनती अधिकारी को 7 माह के भीतर कर दिया सरकार ने ट्रांसफर

शिमला : जी हां आपने अक्सर सुना होगा कि सरकारों के अंदर मेहनत व ईमानदारी से रात दिन जनता की सेवा में डटे हुए अधिकारियों को सरकारें पदोन्नति देकर जहां उनका उत्साह बढ़ाती हैं मगर वहीं दूसरी तरफ कई जगहों पर अक्सर ऐसा देखने को मिलता है कि सरकार के कुछ एक मंत्रियों को चापलूस, भ्रष्टाचारी अधिकारी ज्यादा पसंद होते हैं। ईमानदार और कर्मठ अधिकारी जो जनता की सेवा में डटे रहते है वही अधिकारी उनकी आंखों में खटकना शुरू हो जाते हैं। ऐसा ही एक प्रमुख उदाहरण हिमाचल प्रदेश का भी है। हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा में कृषि उपज मंडी समिति कांगड़ा के जिला सचिव डॉ राजकुमार भारद्वाज जो कि एक बहुत ही ईमानदार एवं मेहनती ब दिन रात लोगों की सेवा करने वाले अधिकारी के रूप में जाने जाते रहे हैं उन्हेें अभी कांगड़ा में महज एपीएमसी का कार्यभार संभाले हुए मात्र 7 महीने ही हुए थे मगर सरकार ने उनके तबादला आदेश जारी करके जनता को आश्चर्यचकित कर दिया है। कृषि उपज मंडी समिति कांगड़ा में जिला सचिव का कार्यभार संभालते ही डॉ राजकुमार भारद्वाज ने कृषि उपज मंडी समिति की सभी खामियों को पूरा किया तथा जिले की सभी मंडियों से आ रही शिकायतों का निवारण किया तथा हर समय लोगों की समस्याओं को सुनकर उनका निपटारा किया। सबसे बड़ी विशेष बात यह है कि पिछले दो महीनों से कोरोना संकट के दौरान एपीएमसी सचिव ने जिलाधीश कांगड़ा के निर्देशानुसार दिन रात पूरी मेहनत के साथ एपीएमसी जिला कांगड़ा को सुचारू रूप से चलाने में पूरा योगदान दिया ।प्रदेश में कृषि विभाग की अगर बात करें तो डॉ राजकुमार भारद्वाज कृषि विभाग के अधिकारियों में सबसे काबिल मेहनती व ईमानदार अधिकारी के रूप में जाने जाते रहे हैं। डीसी कांगड़ा भी इनके प्रशंसनीय कार्यो की तारीफ कर चुके है। कांगड़ा की जनता भी उनके कामों की तारीफ करती है मगर प्रदेश सरकार व कृषि मंत्रालय ने इनको ट्रांसफर करके यह साबित कर दिया कि प्रदेश में ईमानदार व योग्य अधिकारियों की कोई जरूरत नहीं है

जिला कांगड़ा की जनता प्रदेश सरकार व कृषि मंत्री राम लाल मारकंडा से जानना चाहती है कि ऐसी क्या वजह है कि कृषि उपज मंडी समिति जिला कांगड़ा के सचिव डॉ राजकुमार भारद्वाज के मात्र 7 माह के अंदर पूरी ईमानदारी एवं कर्तव्य निष्ठा से काम करने के बावजूद भी तबादला आदेश जारी कर दिए गए ।जबकि प्रदेश में कुछेक ऐसे अधिकारी भी है जो कई सालों से कुंडली मारकर एक ही जगह पर बैठे हुए हैं तथा कई ऐसे भी हैं जिनके ऊपर कई तरह के आरोप लग चुके हैं मगर उनको तो कभी तुरंत तबादला आदेश जारी नहीं हुए हैं। जिला कांगड़ा की जनता ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग की है कि कृषि उपज मंडी समिति जिला कांगड़ा के सचिव डॉ राजकुमार भारद्वाज जी के तबादला आदेशों को जल्दी रद्द किया जाए। जनता की मांग है कि इस तरह के अधिकारियों को सरकार को सम्मानित करना चाहिए तथा उन्हें पदोन्नति देनी चाहिए ना कि तबादला करना चाहिए ।एक तरफ तो प्रदेश की जयराम सरकार ईमानदारी की दुहाई देती है वहीं दूसरी तरफ ईमानदार अधिकारियों के तबादले कर दिए जाते हैं यह बहुत ही दुखद विषय है। लोगों का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि एपीएमसी जिला सचिव की ईमानदारी व सराहनीय कार्यों को देखते हुए सरकार जल्द उनके तबादला आदेश रद्द करेगी।

क्या कहते है कृषि विपणन बोर्ड चैयरमैन

इस बारे में कृषि विपणन बोर्ड हिः प्रः के चैयरमैन बलदेव भंडारी का कहना है कि यह सरकार व कृषि विभाग का निर्णय है इसमे कृषि विपणन बोर्ड का कोई लेना- देना नहीं होता है।ये सभी अधिकारी कृषि विभाग द्वारा डेपुटेशन पर भेजे जाते है तथा सरकार जब चाहे उन्हें वापिस ले सकती है।ट्रांसफर का मामला सरकार के अधीन आता है तथा ये सरकार का खूद का निर्णय है।

Most Popular

नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स इंडिया की बैठक शिमला में आयोजित ..किया कार्यकारणी का गठन

शिमलानेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स इंडिया की बैठक हिमाचल इकाई के अध्यक्ष रणेश राणा की अध्यक्षता में शिमला में आयोजित हुई। बैठक में...

मुकेश भले ही नेता प्रतिपक्ष पर उनका दल ही उन्हें अपना नेता मानने से कर रहा गुरेज : राकेश पठानिया

वन मंत्री राकेश पठानिया ने नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्रिहोत्री को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हिमाचल सरकार तो उन्हें नेता प्रतिपक्ष...

विधानसभा सत्र के स्थगन पर पुनर्विचार करें सरकार : राकेश सिंघा

शिमला सीपीआईएम के वरिष्ठ नेता और विधायक राकेश सिंघा ने हिमाचल विधानसभा के शीतकालीन सत्र को टालने के...

अदरक की बंपर फसल पर भारी पड़ा लॉकडाउन, नहीं मिल रहे वाजिव दाम

शिलाई असम और बंगलूरू में लॉकडाउन के दौरान हुई अदरक की बंपर फसल से इस बार हिमाचली अदरक का निर्यात बांग्लादेश को...

Recent Comments