Thursday, February 27, 2020

-

सरहद की रक्षा के बाद उठाया पर्यावरण की रक्षा का जिम्मा

रेणुका गौतम

जिला कुल्लू के प्राकृतिक सुंदरता से भरे गांव आज बाहरी राज्यों के पर्यटकों का मन मोह रहे हैं तो वहीं उपमंडल बंजार का जीभी गांव भी देसी व विदेशी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनते जा रहा हैं। जीभी गांव जहां गर्मियों में सैलानियों से भरा रहता है तो वहीं सर्दियों में भी यहां की सुंदरता को निहारने के लिए पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। लेकिन कुछ सालों पहले इस गांव को कोई नहीं जानता था। इस गांव के एक व्यक्ति की दृढ़शक्ति से यह टूरिज्म का हब बनता जा रहा है।

ग्रामीण भगवंत सिंह राणा के प्रयासों से आज पूरे गांव में इको टूरिज्म पॉलिसी के तहत छोटे-छोटे गेस्ट हाउस व कॉटेज का निर्माण किया जा रहा है। तो वही गांव की सुंदरता को बचाए रखने के लिए भी इनका प्रयास सराहनीय है। साल 1992 में सेना की नौकरी छोड़ने के बाद जब भगवान सिंह राणा वापस अपने जीभी गांव आए तो यहां की सुंदरता को पूरे दुनिया में उबारने के लिए उन्होंने इको टूरिज्म की शुरुआत की। हालांकि उनके इस प्रयास को देखकर पहले गांव के लोग उन्हें पागल समझते थे। लेकिन धीरे-धीरे जब जीबी गांव के सौंदर्य को देखने के लिए पर्यटक यहां पहुंचने लगे और यहां के लोगों के लिए भी रोजगार के द्वार खुलते गए। भगवान सिंह राणा ने जीभी खड्ड में बनने वाले हाइड्रो प्रोजेक्ट के खिलाफ भी लंबी लड़ाई लड़ी और आखिर इस लंबी लड़ाई का नतीजा उनके पक्ष में आया। उसके बाद से गांव के कई युवा भी उनकी इस मुहिम के साथ जुड़ते गए और आज जीभी गांव किसी परिचय का मोहताज नहीं है। जिला कुल्लू के अन्य पर्यटन स्थलों पर बड़े-बड़े कंक्रीट के भवनों को देखकर उन्होंने निर्णय लिया कि जीभी गांव में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए मिट्टी के पुराने घरों का निर्माण किया जाएगा जो पूरी तरह से पर्यावरण के लिए सुरक्षित हैं।

वही जीभी गांव को कचरे से मुक्त रखने के लिए भी वे ग्रामीणों के संग मिलकर अभियान चलाते हैं तथा इस बारे में विशेष रूप से स्कूल के बच्चों को भी जागरूक किया जाता है। भगवान सिंह राणा ने बात करते हुए बताया कि सेना की नौकरी के दौरान जब उनकी पोस्टिंग जम्मू-कश्मीर में थी तो उन्हें वह वहां के जंगलों को देखकर लगा कि ठीक वैसे ही जंगल और पर्यावरण उनके गांव में भी है तो ऐसे में वहां पर भी पर्यटन को शुरू किया जा सकता है। इस मुहिम में वे काफी समय तक अकेले ही चले रहे लेकिन जब पर्यटकों का आना बढ़ने लगा तो गांव के कुछ और अन्य लोग भी उनके साथ इस मुहिम में जुड़ गए। जिसका नतीजा यह है कि अब हर साल हजारों सैलानी जीभी गांव आते हैं और ग्रामीणों को घर पर ही रोजगार मिल रहा है। अब ग्रामीणों ने भी यह निर्णय लिया है कि वे कंक्रीट के भवन ना बनाकर अपने घरों को मिट्टी पत्थर और लकड़ी से बनाएंगे ताकि यहां आने वाले पर्यटक अपने आप को प्रकृति के नजदीक महसूस कर सकें।

Latest news

वाहन दुर्घटनाग्रस्त .. बच्चों ने सुनी चींख पुकार तो लगी जानकारी

कुल्लू : आनी से 13 किलोमीटर दूर घरडा नाला में एक कार 600-700 फीट गहरी खाई में...

यंग द्रुकपा एसोसिएशन गरशा ने जिला कुल्लू के बिजली महादेव में की छटी इको पदयात्रा

रेणुका गौतम300 से अधिक ने लिया हिस्सा विशाल सफाई अभियान भी चलाया

मत्स्य पालन में 35 हजार करोड़ का निवेश करेगी सरकार

रेणुका गौतममनाली में शुरू हुई तीन दिवसीय कार्यशाला हिमाचल प्रदेश मत्स्य पालन विभाग और...

अपने कार्य को सिद्ध करने के लिए विभाग ने ही काट डाले चीड़ के हरे पेड़

रेणुका गौतमजनप्रतिनिधियों ने लगाया एफआरए 2006 नियमों की धज्जियां उड़ाने का आरोपबंजार : ग्रेट हिमालयन नैशन पार्क...

बिजली महादेव रोप-वे का काम अब जल्द होगा शुरू

रेणुका गौतम प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट पर ऑस्ट्रिया की टेक्निकल कमेटी ने...

“प्राकृतिक खेती खुशहाल किसान” योजना के तहत यान गावं में दो दिवसीय शिविर का समापन

स्वस्थ भोज्य पदार्थ ही जीवन को समृद्ध और सशक्क्त परिवेश में ढाल सकता है जिसके लिएआवश्यक है...

Must read

You might also likeRELATED
Recommended to you