Friday, June 21, 2024
Homeराजनीतिपण्डित सुखराम आया राम गया राम राजनीति की संस्कृति के प्रतीक...

पण्डित सुखराम आया राम गया राम राजनीति की संस्कृति के प्रतीक -चंद्रमोहन

 भारतीय जनता पार्टी के महामन्त्री श्री चन्द्रमोहन ठाकुर ने कहा कि मण्डी संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा द्वारा यह कहे जाने पर ‘‘कि उनके पिता केवल उनके है भाजपा के नहीं हो सकते हैं’’ के पश्चात् अनिल शर्मा को अपना स्टैंड क्लीयर (स्थिती सपष्ट) करना चाहिये। कि अपने पुत्र का साथ देना है या फिर भाजपा का जिसके सहारे वह विधायक है और मन्त्रिमण्डल मे विराजमान है।  भाजपा के प्रदेश महामंत्री ने कहा कि अगर अनिल शर्मा भाजपा मे बने रहना चाहते हैं तो उन्हे पार्टी के निर्देशानुसार मण्डी विधानसभा श्रेत्र के साथ अन्य क्षेत्रों मे पार्टी के पक्ष मे प्रचार के लिये उतरना होगा। क्योंकि पुत्र और पार्टी को लेकर उनके मन मे दुविधा हो सकती है परन्तु पार्टी को उन्हे लेकर कोई दुविधा नहीं है।  चन्द्रमोहन ठाकुर ने कहा कि भाजपा एक सक्षम पार्टी है किसी व्यक्ति विशेष के बजाय कार्यकर्ताओं के दम पर चुनाव लड़ती है एैसे मे अगर किसी को यह लगता है कि उनके सहारे विधानसभा चुनावो मे जीत मिली है तो यह सिर्फ उनकी गलत फहमी है। भाजपा ने वर्ष 2007 के विधानसभा चुनावों मे भी मण्डी से सात विधानसभा क्षेत्रों मे विजय हासिल की थी और गत् लोकसभा चुनावों मे मण्डी संसदीय क्षेत्र मे कांग्रेस पार्टी के सत्ता के रहने के और सत्ता के दुरूपयोग के बावजूद शानदार जीत हासिल की है। इस बार तो नरेन्द्र मोदी का नाम और मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी का मण्डी लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस का बजूद खत्म कर देंगे।  भाजपा महामंत्री ने कहा कि पण्डित सुखराम आया राम गया राम राजनीति की संस्कृती के प्रतीक बन चुके है। इस बात को न केवल प्रदेश की जनता बल्कि कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मुख्यमंत्री भी बार-बार कहते रहे है। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह जी का पण्डित सुखराम के बारे मे यह बयान कि पण्डित सुखराम को अपने परिवार के अतिरिक्त कुछ और नहीं दिखता है। पण्डित सुखराम की राजनीति के सबसे शर्मनाक पहलु को उजागर करता है परन्तु इस बार के चुनाव गन्दी राजनीति के इस अध्याय को पूरी तरह समाप्त करने का मन बना चुके है। 

Most Popular