Monday, December 5, 2022
Homeराजनीतिहिमाचल को फिर से मिल सकता है ब्राह्मण मुख्यमंत्री: पंडित शशि पाल...

हिमाचल को फिर से मिल सकता है ब्राह्मण मुख्यमंत्री: पंडित शशि पाल डोगरा

शिमला: जाने माने अंक ज्योतिषाचार्य एवं वशिष्ठ ज्योतिष सदन के अध्यक्ष पंडित शशिपाल डोगरा ने अंक गणना के आधार पर एक और भविष्यवाणी की है। उन्होंने यह गणना नई सरकार के मुखिया को लेकर की है। उनकी गणना कहती है कि अगली‌ सरकार की कमान किसी ब्राह्मण नेता के हाथ में हो सकती है। इ‌सके पीछे उनकी ठोस दलील है और वह यह है कि अंक गणना का जो योग इस समय बन रहा है, ठीक वैसा ही योग 1977 और 1990 में भी बना था।
पंडित डोगरा के मुताबिक 12 नबंबर, 2022 को विधानसभा चुनाव सम्पन्न हुआ। 1 + 2 = 3 अंक जो गुरु का अंक है। गुरु ग्रह ब्राह्मण का कारक है। 2022 में चुनाव 2+0+2+2=6 अंक जो शुक्र का अंक है। जहां गुरु देवताओं के गुरु माने जाते हैं, वहीं शुक्र देत्यों के गुरु माने जाते हैं और शुक्र भगवान शिव के अनन्य भक्त हैं। अगर कुछ ठान लेते हैं, तो पूरी ताकत लगा लेते हैं। 1977 में जब शांता कुमार चौथे मुख्यमंत्री बने थे, उस वक्त भी ऐसा ही योग बना था।
पंडित डोगरा की गणना कहती है कि 1+9+7+7=24=2+4=6 अंक शुक्र का अंक है। हिमाचल प्रदेश में शांता कुमार ब्राह्मण मुख्यमंत्री बने थे। 2+0+2+2=6 अंक में भी ऐसा ही योग बन रहा है और हिमाचल प्रदेश में ब्राह्मण मुख्यमंत्री हो सकता है। 1990 में शांता कुमार दूसरी बार मुख्यमंत्री बने थे। 1990 के बाद 32 वर्ष बाद 33वें वर्ष में 3+3=6 अंक शुक्र के अंक में इस प्रकार का योग पुनः बन रहा है।
वहीं ज्योतिषीय गणना के हिसाब से मीन राशि के स्वामी गुरु जो आज कल वक्री चले हुए हैं, 24 नवंबर, 2022 की सुबह 4: 27 बजे पर मार्गी हो रहे हैं। 2 + 4 = 6 अंक जो पुनः शुक्र का अंक है। गुरु का स्वराशि में मार्गी होना ‘हंस पंच महापुरुष योग’ का निर्माण कर रहा है, जो उच्च राजयोग बना रहा है। यह समृद्धि की प्राप्ति करवाएगा। ये समय भाग्यशाली होगा। उधर, 16 नवंबर, 2022 को सूर्य का वृश्चिक राशि में प्रवेश होना व उसी पर मीन राशि में बैठे गुरु की नवम दृष्टि ब्राह्मण के लिए उच्च पद पर आसीन होने का योग बना रहा हैं। ऐसा ही योग वैदिक ज्योतिष के हिसाब से 1990 में भी बना था। इसलिए पुनः शांता कुमार दूसरी बार मुख्यमंत्री बने थे। 32 वर्ष बाद अब तीसरी बार ब्राह्मण का योग बन रहा है।‌ बाकी सर्वज्ञ तो ईश्वर है।

सत्यदेव शर्मा सहोड़

Most Popular

Recent Comments