Friday, December 4, 2020
Home शिमला पीजी प्रवेश परीक्षा की मांग को लेकर राज्यपाल से मिले एनएसयूआई के...

पीजी प्रवेश परीक्षा की मांग को लेकर राज्यपाल से मिले एनएसयूआई के छात्र

शिमला छात्र संगठनों द्वारा प्रदेश विश्वविद्यालय द्वारा पीजी कोर्सों के लिए मेरिट के आधार पर छात्रों के चयन के फैसले का विरोध लगातार जारी है। इसी के चलते एक बार फिर एनएसयूआई के छात्र प्रदेश संगठन महासचिव मनोज चौहान के नेतृत्व में राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से मिले। एनएसयूआई ने पीजी प्रवेश परीक्षा आयोजित करवाने व अन्य कई मांगो को लेकर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा। एनएसयूआई ने विवि प्रशासन पर आरोप लगाया कि पहले तो छात्रों से प्रवेश परीक्षा के नाम पर भारी भरकम आवेदन शुल्क वसूला गया और बाद में आवेदन कर्ता छात्रों के साथ धोखा करते हुए मेरिट के आधार पर एडमिशन देने की अधिसूचना जारी कर दी। ऐसे में जब छात्रों ने इस फैसले का विरोध करने के लिए आवाज़ उठाई तो विवि प्रशासन ने दमनकारी नीति अपनाते हुए पुलिस बल का दुरुपयोग करते हुए छात्रों पर लाठियां तक चलवा दी। एनएसयूआई के आरोप है कि जब मेरिट के आधार पर ही प्रवेश देना था तो 50 से 65 प्रतिशत अंको वाले छात्रों से प्रवेश परीक्षा के नाम पर पैसे इकठ्ठा करने के उद्देश्य मात्र से आवेदन लिए गए। प्रदेश संगठन महासचिव मनोज चौहान ने कहा कि प्रशासन यूजीसी की गाइडलाइनों का हवाला देते हुए प्रवेश परीक्षा न करवाने की बात करता है जो कि सरासर गलत है। जबकि यूजीसी की गाइड लाइन में कहीं पर भी यह नहीं लिखा कि प्रवेश परीक्षा की जगह मेरिट के आधार पर दाखिले लिए जाए। मनोज चौहान ने कहा कि जब एलएलबी, एमबीए और बीएड की प्रवेश परीक्षाएं हो रही है तो फिर अन्य कोर्सों के लिए अलग मापदंड और नियम क्यों? विवि परिसर इकाई अध्यक्ष प्रवीन मिन्हास ने कहा कि योगा, ग्रामीण विकास,  जनरलिज़्म जैसे कई पीजी कोर्स ऐसे है जहाँ आर्टस, कॉमर्स और साइंस जैसी अलग अलग स्ट्रीमों से छात्र आवेदन करते है तो ऐसे में मेरिट के आधार पर प्रवेश एक विवादित विषय है। साथ ही एनएसयूआई ने कॉलेज छात्रों की सुविधा के लिए ऑनलाइन स्टूडेंट ग्रीवांस रिड्रेसल पोर्टल खोलने की मांग की जिससे दूर दूर से छात्रों को समस्याओं के हल के लिए विश्वविद्यालय के चक्कर न काटने पड़े। इसके साथ विवि में हो रही शिक्षक व गैर शिक्षक भर्तियों में पारदर्शिता रखने व आउट सोर्स भारतीयों पर बैन लगाने की मांग भी प्रमुखता से उठाई गई। इस अवसर पर एनएसयूआई के मनोज चौहान, प्रवीन मिन्हास के अलावा वीनू मेहता और यासीन बट्ट भी उपस्थित रहे।

Most Popular

नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स इंडिया की बैठक शिमला में आयोजित ..किया कार्यकारणी का गठन

शिमलानेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स इंडिया की बैठक हिमाचल इकाई के अध्यक्ष रणेश राणा की अध्यक्षता में शिमला में आयोजित हुई। बैठक में...

मुकेश भले ही नेता प्रतिपक्ष पर उनका दल ही उन्हें अपना नेता मानने से कर रहा गुरेज : राकेश पठानिया

वन मंत्री राकेश पठानिया ने नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्रिहोत्री को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हिमाचल सरकार तो उन्हें नेता प्रतिपक्ष...

विधानसभा सत्र के स्थगन पर पुनर्विचार करें सरकार : राकेश सिंघा

शिमला सीपीआईएम के वरिष्ठ नेता और विधायक राकेश सिंघा ने हिमाचल विधानसभा के शीतकालीन सत्र को टालने के...

अदरक की बंपर फसल पर भारी पड़ा लॉकडाउन, नहीं मिल रहे वाजिव दाम

शिलाई असम और बंगलूरू में लॉकडाउन के दौरान हुई अदरक की बंपर फसल से इस बार हिमाचली अदरक का निर्यात बांग्लादेश को...

Recent Comments